Ajiiz Itanaa Hii Rakho Ke Jii Sambhal Jaaye Lyrics – Lamha Lamha (Non-Film)

The song “Ajiiz Itanaa Hii Rakho Ke Jii Sambhal Jaaye” from the movie Lamha Lamha (Non-Film) is a famous Song, sung by Ghulam Ali. The song is composed by Ghulam Ali with lyrics written by Obaidullah Alim.

Movie: Lamha Lamha (Non-Film)
Singer(s): Ghulam Ali
Musician(s): Ghulam Ali
Lyrics: Obaidullah Alim

Ajiiz Itanaa Hii Rakho Ke Jii Sambhal Jaaye Song Lyrics-Lamha Lamha (Non-Film)

अजीज़ इतना ही रखो के जी सम्भल जाये
अब इस क़दर भी न चाहो के दम निकल जाये

मुहब्बतों में अजब है दिलों को धड़का सा
के जाने कौन कहाँ रास्ता बदल जाये

ज़हे वो दिल जो तमना-ए-ताज़ातर में रहे
ख़्हुशा वो उम्र जो ख़्वाबों में ही बहल जाये

मैं वो चराग़-ए-सर-ए-रह-गुज़ार-ए-दुनिया हूँ
जो अपनी ज़ात की तन्हाइयों में जल जाये

हर एक लम्हा यही आरज़ू यही हसरत
जो आग दिल में है वो शे में भी ढल जाये

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *