Muhabbat Hii Na Jo Samajhe, Vo Zaalim Pyaar Kyaa Jaane Lyrics – Parchhain

The song “Muhabbat Hii Na Jo Samajhe, Vo Zaalim Pyaar Kyaa Jaane” from the movie Parchhain is a famous Song, sung by Talat Mehmood. The song is composed by C Ramchandra with lyrics written by Noor Lucknowi.

Movie: Parchhain
Singer(s): Talat Mehmood
Musician(s): C Ramchandra
Lyrics: Noor Lucknowi

Muhabbat Hii Na Jo Samajhe, Vo Zaalim Pyaar Kyaa Jaane Song Lyrics-Parchhain

मुहब्बत ही न जो समझे, वो ज़ालिम प्यार क्या जाने
निकलती दिल के तारों से, जो है झंकार क्या जाने
मुहब्बत ही न जो समझे …

उसे तो क़त्ल करना और तड़पाना ही आता है
गला किसका कटा क्यूँकर कटा तलवार क्या जाने – २
मुहब्बत ही न जो समझे …

दवा से फ़ायदा होगा कि होगा ज़हर-ए-क़ातिल से

मज़र् की क्या दवा है ये कोई बीमार क्या जाने
मुहब्बत ही न जो समझे …

करो फ़रियाद सर टकराओ अपनी जान दे डालो – २
तड़पते दिल की हालत हुस्न की दीवार क्या जाने – २
मुहब्बत ही न जो समझे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *